4 thoughts on “Gandhi – An ideal Manager (in Hindi)”

  1. Saty kintu aaj ka noukarshah & rajnitik par koi fark padane wala nahi. or na wo jantar ka prayog kabhi karege or yadi unse puchhoge to 100 paristiyan va 1000 nukasan bata dainge.

  2. Saty kintu aaj ka noukarshah & rajnitik pau koi fark padane wala nahi or na wo jantar ka prayog karne wala balki uske badle 100 paristhitiya va 1000 nukasan gina dega or janta………?

  3. आदरणीय शर्मा जी,
    आपसे मिलने का सुअवसर मिला मैं धन्य हो गया मै आपकी शख्सियत से बेहद प्रभावित था मैं आपको आपके सुधारवादी मिशन के लिए धन्यवाद ज्ञापित करने गया था यह जताने की आपके विचारों की ताकत को मैने पहचाना और भी आपके प्रतिभा एवं सद्कार्यों के मुरीद होंगे परंतु शायद आप तक अपनी सद्भावनाएं नही भेज पाते होंगे मै उन गुमनाम प्रशंसकों की ओर से आपका शुक्रिया करने आया था आपने मुझे जो लेख दिए एवं आपकी वेब साइट एवं ईमेल का पता दिया इससे मै और भी धन्य हो गया आपके काम को दुनिया भर तक जाते देखकर मै बेहद प्रसन्न हूँ मै भी इस काम से लाभान्वित हो रहा हूँ एवं मै आपके विचारो से दूसरो को भी लाभान्वित करूंगा मेरी मान्यता है कि श्रेष्ठ विचारो से ही समाज का सुधार हो सकता है इसलिए श्रेष्ट विचारकों को उनके सदकार्यों के लिए धन्यवाद देना एवं सानिध्य प्राप्त करने का सुअवसर मै नही छोडता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *